कुछ पाने की उम्मीद

उनके लिये सवेरा नहीं होते जो जिन्दगी में कुछ भी पाने की उम्मीद छोड़ चुके हैं

उजाला तो उनके लिए होता है, जो बार बार हारने के बाद भी कुछ पाने की, उम्मीद रखते हैं