चित्र ही नहीं… चरित्र भी सुंदर हो।

“चित्र ही नहीं…
चरित्र भी सुंदर हो।”
“भवन” ही नहीं…
भावना भी सुंदर हो।”
“साधन ही नहीं…
साधना भी सुंदर हो।”
“दृष्टि ही नहीं….
आपका दृष्टिकोण भी सुंदर हो।”

श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारी, हे नाथ नारायणवासुदेव !! जय श्री राधे । जय श्री राधे राधे ।

🌺☺ सुबह का प्यार भरा प्रणाम ☺🌺
“”””””””:::””””””””””
आज का दिन आपको व आपके परिवार के लिए शुभ व मंगलमय हो
💐💐💐💐💐