नवरात्रि शायरी

माँ की अराधना का ये पर्व है
माँ की 9 रूपों की भक्ति का ये पर्व है
बिगड़े काम बनाने का ये पर्व है
भक्ति का दिया दिल में जलाने का पर्व है
नवरात्रि की शुभकामनाएं                                                                                                                                                                                                            हे माँ तुमसे विश्वास ना उठने देना
तेरी दुनिया में भय से जब सिमट जाऊ
चारो ओर अंधेरा ही अंधेरा घना पाऊ
बन के रोशनी तुम राह दिखा देना