स्कारो से बड़ी कोई वसियत नही

संस्कारो से बड़ी कोई वसियत नही ,,,
ओर
ईमानदारी से बड़ी कोई विरासत नही