Heart Touching Hindi Kavita – Riste Ki Aahmiyat Kavita

तन्हा बैठा था एक दिन मैं अपने मकान में, चिडिया बना रही थी घोंसला रोशनदान में। पल भर में आती

Read more

Inspirational poems about life – मिलते जुलते रहा करो

*मिलते जुलते रहा करो* धार वक़्त की बड़ी प्रबल है, इसमें लय से बहा करो, जीवन कितना क्षणभंगुर है, मिलते

Read more

❝ सोचा ❞ था ❝ घर ❞ बना कर बैठुंगा सुकून से.. पर घर की ज़रूरतों ने ❝ मुसाफ़िर ❞ बना डाला ! – हरिवंशराय बच्चन

❝ खवाहिश ❞ नही मुझे ❝ मशहुर ❞ होने की आप मुझे ❝ पहचानते ❞ हो बस इतना ही काफी

Read more