Kitni Aham Hai – वक़्त दोस्त और परिवार 

वक़्त, दोस्त और परिवार
वो चीजें है;
जो मिलती तो *मुफ्त* हैं;
मगर *इनकी कीमत* का पता;
तब *चलता* हैं;
जब ये कहीं *खो जाती हैं